• +91-906-856-5306
  • yajyavijyaanam@patanjaliyogpeeth.org.in

लत, व्यसन

1.1 जी.आर.गोलेछा व अन्य (1987) ने 25 वर्षीय सेना के एक अफसर पर एक अनुसन्धान किया जोकि मादक पदार्थों के व्यसन से ग्रस्त था और उसके मन में नशामुक्ति की प्रेरणा भी शेष न थी| उसे प्रतिदिन दोनों सन्ध्याओं के समय यज्ञ करवाया गया| अंततः यज्ञ-चिकित्सा के फलस्वरूप उसकी स्थिति में अद्भुत सुधार होने लगा जिसके परिणामस्वरूप उसकी मादक द्रव्यों पर शारीरिक निर्भरता एवं मानसिक उत्कंठा समाप्त होने लगी| यज्ञ के अनुष्ठान से उसका स्वास्थ्य, कार्य-कुशलता एवं सामाजिक सम्बन्धों में सुधार होने लगा| यह शोध व्यसन से मुक्ति में यज्ञ चिकित्सा के प्रभाव को प्रमाणित करता है|

G. R. Golechha et al., (1987)