• +91-906-856-5306
  • yajyavijyaanam@patanjaliyogpeeth.org.in

गुग्गुल धूप

रोगों हेतु लाभप्रद:-

ग्वायकॉल, मेथेनामाइन, थोजन, बोर्नियोल आदि।

प्रयोग विधि:-

● हवन करने के पश्चात शान्त अग्नि के अंगारों पर आवश्यकता अनुसार गुग्गुल रखें व उठ रही धूनी को घर में फैलने दें उस वायुमंडल में रोगानुसार योगाभ्यास करें।

यज्ञ संबंधित प्रोडक्ट प्राप्त करने हेतु अपने नजदीकी पतंजलि स्टोर पर जाएं,

ओनलाइन प्राप्त करने हेतु Order-Me App पर जाएं वहां उपलब्ध न होने पर संपर्क कर प्राप्त कर सकते हैं / +91-895-489-0173

"गुग्गुल धूप" जो सौमनस्य कारी, मन को प्रसन्न करने वाला, तनाव, अनिद्रा, आदि मानसिक रोगों को दूर करने वाला व वात , पित्त, कफ तीनों दोषों का संतुलन करता है साथ ही पुष्टिकारक बलकारक,हृदय, कंठकारक होने के कारण सभी प्रकार के रोगों के उपचार में अत्यंत लाभदायक सिद्ध होता है। गुग्गुल की धूनी से ग्वायकॉल, मेथेनामाइन, थोजन, बोर्नियोल जैसे कॉम्पोनेंट- मॉलिक्यूल-गैसों, नैनोपार्टिकल्स एवं ऊर्जा या एनर्जी के रूप में रुपान्तरित होकर श्वसन आदि माध्यम से शरीर में प्रविष्ट होकर आरोग्य लाभ प्रदान करता है।

यज्ञ चिकित्सा के चमत्कारी प्रत्यक्ष अनुभव देखें।

यज्ञ चिकित्सा एवं प्रशिक्षण हेतु वीडियो प्लेलिस्ट देखें।

(यज्ञ न आने पर यज्ञ विधि विडियो चलाये व साथ हवन करें)

शास्त्र, विज्ञान व प्रत्यक्ष अनुभव तीनों प्रमाण पर आधारित यज्ञ चिकित्सा PPT

(यज्ञ चिकित्सा PPT)